AAIYE PRATAPGARH KE LIYE KUCHH LIKHEN -skshukl5@gmail.com

Monday, 2 July 2012

परमार्थी कर्कशता

कूंकती कोयल की वाणी 
मुग्ध  सुनता रह गया राहगीर 
कोयल  अपने लधु शिशुओं को 
पटक गयी कौए के घोंसले में |
कर्कश  कौआ ला रहा था 
छोटा छोटा दाना 
अपने नन्हें बच्चों के लिए 
एक क्षण राहगीर को भी लगा 
यूं स्वार्थी सुरीले -पन से
भली है परमार्थी कर्कशता |

रूचि सक्सेना 







5 comments:

रविकर फैजाबादी said...

सुन्दर कर्कशता ||

surendrshuklabhramar5 said...

रूचि जी बहुत सुन्दर..सटीक ..और कौवा बेचारा भेद नहीं कर बड़े प्यार से पालता है ..परमारथ बहुत अच्छा है ..केवल मीठी वाणी ही हो और प्रकृति उलटी तो सब बेकार ....
अच्छी रचना
भ्रमर ५

ब्लॉ.ललित शर्मा said...

**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
*****************************************************************
उम्दा प्रस्तुति के लिए आभार


प्रवरसेन की नगरी
प्रवरपुर की कथा



♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

♥ जीवन के रंग संग कुछ तूफ़ां, बेचैन हवाएं ♥


♥शुभकामनाएं♥

ब्लॉ.ललित शर्मा
***********************************************
~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^
**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

ब्लॉ.ललित शर्मा said...

**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
*****************************************************************
उम्दा प्रस्तुति के लिए आभार


प्रवरसेन की नगरी
प्रवरपुर की कथा



♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

♥ जीवन के रंग संग कुछ तूफ़ां, बेचैन हवाएं ♥


♥शुभकामनाएं♥

ब्लॉ.ललित शर्मा
***********************************************
~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^
**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

surendrshuklabhramar5 said...

प्रिय ललित जी अभिवादन ...बहुत सुन्दर लेख और सुन्दर चिट्ठों और रचनाओ का लिंक ...खूबसूरत रही ये साहित्य यात्रा ....
हमारे ब्लॉग' प्रतापगढ़ साहित्य प्रेमी मंच 'से आप ने 'परमार्थी कर्कशता' को चुना देख कर ख़ुशी हुयी आभार
भ्रमर ५