AAIYE PRATAPGARH KE LIYE KUCHH LIKHEN -skshukl5@gmail.com

Saturday, 28 April 2012

"ईश्वर " ( 1)


"ईश्वर " ( 1)
क्या निंदा या करे  प्रशंसा
जिसको तू ना जाने
कोटि-कोटि ले जन्म अरे हे !
मानव ! तू ईश्वर पहचाने !
---------------------------------------
एक एक अणु - कण सब उसका
सब हैं उसके अंश
जगत नियंता जगदीश्वर है
वो अमोघ है, अविनाशी है, वो अनंत !
----------------------------------------
ओउम वही है शून्य वही है
प्रकृति चराचर सरल विषम - सब
निर्गुण-सगुण ओज तेज सब
जीवन- जीव -है पवन वही !
---------------------------------------
जल भी वो है अग्नि वही है
जल-थल उर्वर शक्ति आस है
तृष्णा - घृणा निवारक स्वामी  बुद्धि ज्ञान है
ऋषि वही है, सिद्धि वही है अर्थ वही है !
-------------------------------------------------
ज्ञानी ब्रह्म रचयिता सब का विश्व-कर्म है
वो दिनेश है वो महेश है वो सुरेश है
रत्न वही है रत्नाकर है देव वही
कल्प वृक्ष है सागर है वो कामधेनु है !
-----------------------------------------------
वो विराट है विभु है व्यापक वो अक्षय है
सूक्ष्म जगत है दावानल है बड़वानल है
वो ही हिम है वही हिमालय बादल है वो
अमृत गंगा मन तन सब है- जठराग्नि है
----------------------------------------------
लील सके ब्रह्माण्ड को पल में
धूल - धूसरित कर डाले
क्या मूरख  निंदा  तुम करते
जो जीवन दे तुझको पाले !
-------------------------------------------
सत्य वही है झूठ वही है नाना वर्ण रंग भेद है
उषा वही है निशा वही है अद्भुत धांधा  वो अभेद्य है
वेद उपनिषद छंद गीत  गुरु - ग्रन्थ बाइबिल  कुरान है
सुर ताल वही सूत्र वही सब कारक है संहारक है
--------------------------------------------------------
ऋषि वैज्ञानिक देव दनुज साधू - सन्यासी
पाल रहा - नचा रहा - लीलाधर बड़ा प्रचारक है
कृति अपनी के कृत्य देख सब - खुश भी होता
कभी कभी वो अश्रु बहाए हर पहलू का द्योतक होता  !
-----------------------------------------------------------
ईहा – घृणा - मोह - माया संताप - काम का
अद्भुत संगम काल व्याल जंजाल जाल का
प्रेम किये है तुझको पल पल देखो प्यारे
जीवन देता कण कण तेरे सदा समाये !
-----------------------------------------------------
आओ नमन करें ईश्वर का - परमेश्वर का
अहम छोड़कर प्रेम त्याग से शून्य बने हम
जीवन उसके नाम करें हम मुक्त फिरें इक ज्योति बने
हर जनम जन्म में मानव बन आ मानवता को प्रेम करें !
---------------------------------------------------------
अपनी मूढ़ बुद्धि है जितनी -जितनी  दूर चली जाए
सारा जीवन आओ खोजें खोज - खोज जन हित में लायें
निंदा और प्रशंसा छोड़े बिन-फल इच्छा - कर्म करें
पायें या ना पायें कुछ भी उसके प्यारे हो जाएँ  !
---------------------------------------------------------------------------------------------------------सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५
२६.४.१२ ८.३०-९ पूर्वाह्न
कुल्लू यच पी


MAA SAB MANGAL KAREN

4 comments:

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

बहुत सुन्दर!

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

स्मार्ट इंडियन जी ..आभार आप का प्रोत्साहन हेतु ...आप के अवलोकन पर गया .....
बहुत सुन्दर प्रस्तुति..गुरुदेव रवीन्द्र नाथ जी के लेख और कविताओं की बात ही निराली ही ..यदि कोई कहानी या फिल्म उस को छू भी ले क्यों न मन में घर कर जाए ..
आप का आभार ..अपना स्नेह व् समर्थन दें ..
भ्रमर ५
भ्रमर का दर्द और दर्पण

Asha Saxena said...

सुन्दर और भाव पूर्ण |

surendrshuklabhramar5 said...

आदरणीया आशा जी ...आभार आप का प्रोत्साहन हेतु ..ईश महिमा पर ये रचना आप को अच्छी लगी सुन ख़ुशी हुयी
भ्रमर ५