AAIYE PRATAPGARH KE LIYE KUCHH LIKHEN -skshukl5@gmail.com

Monday, 17 February 2014

‘लोरी’ गा के मुझे सुलाना




‘लोरी’ गा के मुझे सुलाना
-------------------------------




माँ बूढी पथरायी आँखें
जोह रही हैं बाट
लाल हमारे कब आयेंगे
धुंध पड़ी अब आँख
                            —————————-

जब उंगली पकड़ाये चलती
कही कभी थी बात
मै आज सहारा दे सिखलाती
जब बूढी तुम थामना हाथ
—————————-
सूरज मेरा पढ़ा लिखा था
संस्कृति अपनी था सीखा
मात पिता के थे सारे गुण
प्रेम, कर्म से भरा जोशीला
—————————-
घर में रोटी दाल सभी थी
मै ही थी पगलाई
जो विदेश खेती गिरवी रख
लाल को मै भिजवायी
—————————-
बहुत कमाया प्य्रार जताया
अभी और पढता हूँ माँ
कल जब पढ़ लिख पक्का हूँगा
तुझको ले आऊंगा माँ
———————————–
तब तो चिट्ठी आ जाती थी
हँस -रो के मै खा लेती थी
अब रो-रो ही खाती जीती
जितने दिन हैं सांसे चलती
———————————
‘बुरी नजर’या हुआ विदेशी
कौन कला पश्चिम की भायी
सौ गुण युक्त ये सोने चिड़िया
काहे उसको रास न आयी
———————————
बापू तेरे जर्जर हो गए
ठठरी पंजरी पड़ गये खाट
कुछ दिन चल फिर मै कर लूँगी
आँख अँधेरा कल क्या राम !
————————————–
रामचन्द्र का तो ‘चौदह’ था
तेरा कितना हे ! वनवास
क्रोध गुरेज नहीं है मन में
‘नजर’ भरूं ‘आ’ देखूँ आस
——————————–
दिल ये हहर-हहर कर टीसे
जब आते हैं उनके लाल
होली-दीवाली फागुन रंग
हम दो के सपनों की बात
————————————–
अपना देश भी किया तरक्की
घडी घडी अब होती बात
क्यों भूला सब माँ ममता रे !
भूले-विसरे कर ले बात
————————————-
मेरे दिल का दर्द प्रेम क्या
तेरे दिल को ना तड़पाता
‘खून’ मेरा क्या तेरे खून से
जुदा हुआ सब तोड़े नाता
———————————
मर गयी या संवेदना तेरी
तू ‘मशीन’ अब यूरोप का
प्रेम प्यार रिश्ते-नातों की
मातृ-भूमि ना मया-दया
——————————–
‘आ’ बेटा आ अन्त समय ही
मेरी उंगली थाम दिखाना
मुँह में गंगा जल थोड़ा सा
‘लोरी’ गा के मुझे सुलाना
——————————–
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल ‘भ्रमर ५ ‘
करतारपुर , जालंधर
पंजाब
१५-०२ -२०१४
४-४. ३५ मध्याह्न


दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं



सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः

5 comments:

रविकर said...

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

रविकर said...

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

surendrshuklabhramar5 said...

प्रिय रविकर जी माँ के दर्द को आप ने महसूस किया और रचना को मान दिया चर्चा मंच के लिए चुना बड़ी ख़ुशी हुयी आभार
भ्रमर ५

कालीपद प्रसाद said...

विदेश जाकर बच्चे बस जाते हैं और बूढ़े माँ बाप को भूल जाते है ,यह माँ बाप के लिए एक असहनीय पीढ़ा है ---माँ की पीढ़ा को आपने बहुत सुन्दर ढंग से उभारा है --अति सुन्दर !

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

आदरणीय काली प्रसाद जी बहुत बहुत आभार आपका प्रोत्साहन हेतु, रचना में माँ की पीड़ा को आपने समझा और रचना को मान दिया और सराहा ..
भ्रमर 5