AAIYE PRATAPGARH KE LIYE KUCHH LIKHEN -skshukl5@gmail.com

Sunday, 19 August 2012

त्यौहार समभाव


ईद के शुभ अवसर  पर हार्दिक शुभ कामनाएं

राखी, ईद, दिवाली, होली,
 बैसाखी और ओनम ,
साथ मना कर रंग जमायें,
 खुशियों से आखें हों नम |
आओ हिलमिल साथ मनायें
पोंगल और बड़ा दिन ,
हर त्यौहार हमारा अपना ,
हम अधूरे इन बिन |
सूना-सूना जीवन होगा
 और ज़िन्दगी बेरंग ,
झूठा मुखौटा धर्म का
न होगा अनावृत इन बिन |
अनेकता में एकता का
 रहा यही इतिहास ,
राष्ट्रीय पर्व यदि ना होते
ना होता विश्वास |
आस्थाएँ टूट जातीं
 होता हमारा ह्रास ,
इसीलिए सब साथ मनायें
ये सारे त्यौहार |
सारे पर्व भरे जीवन में
 एक नया उत्साह ,
अनेकता में एकता का
 बना रहे इतिहास |
नया नहीं कुछ करना है
जीवन मे रंग भरना है ,
नित नये त्यौहार मनायें
खुश हो सब संसार|
सब में समभाव ज़रूरी है ,
नहीं कोई उन्माद ज़रूरी है ,
है  सदभाव  आज की माँग ,
हम सब साथ मनायें
 ये सारे त्यौहार |

आशा

सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः

1 comment:

surendrshuklabhramar5 said...

आदरणीया आशा जी बहुत सुन्दर काश ऐसे ही सब सद्भावना दिखाएँ प्यार से हर त्यौहार मने तो आनंद और आये ..सुन्दर सन्देश सब को ईद मुबारक ...
भ्रमर ५