AAIYE PRATAPGARH KE LIYE KUCHH LIKHEN -skshukl5@gmail.com

Tuesday, 7 August 2012

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें


श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें 

नन्हा  सा  कान्हा  चले  है  ठुमककर ;
माता  जसोदा  देंखें हुलसकर  ;
चलते  हुए  जब  जरा   डगमगाए   ;
माँ  का  हिया   बड़ा  घबराये  ;
बाँहों  में  भर  लेती  हैं  दौड़कर  !
पैय्या  के  घुंघरू जो छम छम छमकते ;
किलकारी मार  कान्हा कितने मचलते ;
लेती बलैय्याँ   माँ है झूमकर ! 
आँगन में आई एक चिड़िया गौरैय्या  ;
उसको पकड़ने को दौड़ें  कहैय्या ;
फुर्र से उडी ..देंखें हैं चौककर !
                                                                                                                नटखटकन्हैय्या की मोहक अदाएं ;                                                    
गोकुल के नर-नारी  ....सबको  लुभाएँ ;                                                
 माँ-बाबा गोद लेते भाल चूमकर !                                             
नन्हा सा कान्हा चले है ठुमककर !
[sabhi photos google से sabhar ]                                                            
shikha kaushik   

3 comments:

Asha Saxena said...

अच्छे चित्रों से सजी कविता बहुत अच्छी लगी |
आशा

शिखा कौशिक said...

hardik aabhar aasha ji .

surendrshuklabhramar5 said...

आदरणीया शिखा जी जय कन्हैया लाल की बहुत सुन्दर कान्हा की प्यारी लीला मन को मोह ही जाती है ..सुन्दर रचना प्यारी छवियों के साथ
भ्रमर ५